शनिवार, 1 मई 2010

माताराम दादी

8 टिप्‍पणियां:

  1. गुड्डो जी रसबतिया की रसिक बनने के लिए धन्यवाद । रसबतिया में आपका स्वागत है आशा है आप रस भरी बातों में शामिल होती रहेंगीं और कुछ दिल की कुछ जग की सुनेंगी और सुनायेंगी भी ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओह दादी..... मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है .....कोई कहानी लिखिए ना......प्लीज़

    उत्तर देंहटाएं
  3. दादी गुड्डो !ब्लॉग जगत को आपकी रचना का इंतज़ार है .अपने चिठ्ठों (पोस्ट )से चिठ्ठाकारी को समृद्ध कीजिये .चिठ्ठा जगत में आपका स्वागत है .
    वीरुभाई ,कैंटन ,मिशिगन

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुड्डो दी, आपकी रचनाओं का इंतज़ार है...आभार

    उत्तर देंहटाएं